Skip to main content

RSCIT Chapter 4 - What is Internet and Intranet in Hindi

RSCIT Chapter 4 – What is Internet (इन्टरनेट क्या है) के इस अध्याय में हम जानेंगे इंटरनेट के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी जिसमें इंटरनेट क्या हैं, इसे कैसे एक्सेस किया जाता हैं, ISP, MODEM, इंन्ट्रानेट, डोमेन नेम सिस्टम तथा इंटरनेट से जुड़ी अन्य सारी जानकारी।

ध्यान दीजियेगा यहां पर आपको किताब से छापकर पाठ नहीं दिया गया हैं बल्कि सरल भाषा में नोट्स के रूप में समझाया गया है जिससे कि विद्यार्थी को पढ़ने और समझने में आसानी हो। अगर आप RSCIT की परिक्षा में अच्छे नम्बर से पास होना चाहते हैं तो आप RSCIT Chapter 1 से लेकर 16 तथा RSCIT संक्षिप्त शब्दों (Acronyms) को एक बार अच्छे से पढ़ लिजिए।

इन्टरनेट (Internet)

इन्टरनेट क्या है (What is Internet) – इंटरनेट “सूचना का सुपरहाईवे” के नाम से भी प्रसिद्ध है | इसके जरिए आप नवीनतम समाचार पा सकते हैं, लाइब्रेरी कैटलॉग को ब्राउज़ कर सकते हैं, अपने दोस्तों के साथ इनफार्मेशन एक्सचेंज कर सकते हैं या एक जीवंत (Live) राजनीतिक बहस में शामिल हो सकते हैं, इंटरनेट (Internet) एक ऐसा टूल है जो आपको टेलीफोन, फैक्स और पृथक (Isolated) कंप्यूटरों से परे एक सूचना नेटवर्क तक ले जाता है।

इंटरनेट (Internet) एक वैश्विक कंप्यूटर नेटवर्क है जिसमें विभिन्न प्रकार की सूचना और संचार सुविधाएं उपलब्ध हैं, जिसमें मानकीकृत संचार प्रोटोकॉल (Standardized Communication Protocols) का उपयोग करते हुए इंटर कनेक्टेड नेटवर्क शामिल हैं।

RSCIT Chapter 4 के अनुसार एक कंप्यूटर अगर फाइल प्राप्त कर रहा है, तो एक क्लाइंट (Client) कहलाता हैं, और अगर वह फाइल भेज रहा तो एक सर्वर (Server) कहलाता है। इंटरनेट तक पहुंच प्राप्त करने के लिए अधिकांश लोग अपने क्षेत्रों में एक इंटरनेट सेवा प्रदाता (Internet Service Provider – ISP) के साथ एक खाता खोलते हैं।

इंटरनेट को एक्सेस कैसे करें (How to Access Internet)

एक बार जब आप अपने कंप्यूटर को सेटअप कर लिया तो हैं तो आप इंटरनेट एक्सेस पाना चाहेंगे ताकि आप ई-मेल भेज सके, ई-मेल प्राप्त कर सके, वेब को ब्राउज कर सके, मूवी देख सके आदि। इससे पहले कि आप इंटरनेट एक्सेस कर सकें, आपको एक इंटरनेट कनेक्शन और एक वेब ब्राउज़र की आवश्यकता होगी। इंटरनेट कनेक्शन पाने के लिए आपको एक इंटरनेट सेवा प्रदाता (ISP) और एक मोडेम की आवश्यकता होगी।

इंटरनेट सेवा प्रदाता (ISP)

इंटरनेट सेवा प्रदाता एक ऐसा संगठन है जो इंटरनेट का उपयोग करने के लिए सेवाएं प्रदान करता है। आमतौर पर ISP द्वारा प्रदान की जाने वाली इंटरनेट सेवाओं में इंटरनेट एक्सेस, इंटरनेट ट्रांजिट (Internet Transit), डोमेन नाम पंजीकरण (Domain Name System), वेब होस्टिंग (Web Hosting), यूजनेट सेवा (Usenet Service) और कोलोकेशन (Colocation) शामिल हैं।

मॉडेम (Modem)

RSCIT Chapter 4 के अनुसार मॉडेम एक डिवाइस या प्रोग्राम है जो डाटा संचारित करने के लिए एक कंप्यूटर को सक्षम बनाता है। मॉडेम डिजिटल सिग्नल को एनालॉग सिगनल में परिवर्तित करता हैं तथा एनालॉग सिगनल को डिजिटल सिगनल में परिवर्तित करता हैं। मॉडेम विभिन्न प्रकार के होते हैं ~

  • इंटरनल मोडेम (Internal Modem)
  • बाहरी मोडेम (External Modem)
  • पीसी कार्ड मोडेम (PC Card Modem)

इंटरनेट कनेक्टिविटी के प्रकार (Types of Internet Connections)

इंटरनेट कनेक्टिविटी ऐसी प्रक्रिया है जो व्यक्तियों और संगठनों को कंप्यूटर, मोबाइल डिवाइस और कंप्यूटर नेटवर्क का उपयोग करके इंटरनेट (Internet) से कनेक्ट करने में सक्षम बनाती है। कुछ सामान्य इंटरनेट कनेक्शन सेवाएं निम्न हैं ~

  • डायल अप (Dial-Up)
  • ब्रॉडबैंड (Broadband)
  • वाईफाई (Wireless Fidelity – WiFi)
  • डीएसएल (DSL)
  • केबल (Cable)
  • सेटेलाइट (Satellite)
  • मोबाइल (Mobile)

इंट्रानेट (Intranet)

RSCIT Chapter 4 के अनुसार ऐसा नेटवर्क जो किसी समुदाय विशेष के उपयोग हेतु बनाया गया हो तथा जिसे कोई और एक्सेस नहीं कर सकता, यह प्राइवेट नेटवर्क होता है।

इंटरनेट vs इंट्रानेट (Internet vs Intranet)

इंटरनेट ग्लोबल वर्ल्ड वाइड वेब (Public) नेटवर्क है, जबकि इंट्रानेट प्राइवेट नेटवर्क है।
इंटरनेट व्यापक रूप से फैला हुआ है, जबकि इंट्रानेट एक समुदाय (Company) तक सीमित है।

वर्ल्ड वाइड वेब (World Wide Web – www)

यह ओपन सॉर्स इंफॉर्मेशन स्पेस है, जिसमें डाक्यूमेंट्स (Documents) को उनके Url द्वारा पहचाना जाता है, www को एक्सेस करने के लिए एक वेब ब्राउज़र की जरूरत पड़ती है।

इंटरनेट और वर्ल्ड वाइड वेब एक दूसरे के स्थान पर इस्तेमाल होते हैं लेकिन वे समान नहीं हैं। इंटरनेट हार्डवेयर भाग के रूप में कहा जा सकता है, यह या तो कॉपर वायर, फाइबर ऑप्टिक केबल या वायरलेस कनेक्शन के माध्यम से जुड़े कंप्यूटर नेटवर्क का एक संग्रह है; जबकि वर्ल्ड वाइड वेब सॉफ्टवेयर भाग के रूप में कहा जा सकता है, यह वेब पेज का एक संग्रह है जो हाइपरलिंक और यूआरएल के माध्यम से जुड़े हुए हैं।

वेबसाइट (Website)

RSCIT Chapter 4 के अनुसार एक वेब साइट, वर्ल्ड वाइड वेब फाइलों का एक सम्बंधित संग्रह है, जिसमे साथ में एक पेज भी होता है जिसे होम पेज कहते हैं| एक होम पेज वो पेज होता है जो कि किसी भी वेब साईट को एक्सेस करने पर सबसे पहले खुलता है। प्रायः कोई भी कम्पनी या एक व्यक्ति जिसकी वेबसाइट होती है, वो आपको अपनी वेबसाइट के होम पेज का पता देता है क्यों कि होम पेज के द्वारा आप पूरी वेबसाइट को नेविगेट कर सकते हो और किसी भी पेज पर पहँच सकते हो। वेबसाइटें दो प्रकार की होती हैं ~

  • Static
  • Dynamic
यूनिफॉर्म रिसोर्स लोकेटर (Uniform Resource Locator – URL)

इंटरनेट पर किसी स्थान या वस्तु तक पहुंचने का पता URL होता है। Eg. – https://baaba.in/sitemap.xml

  • https – प्रोटोकॉल (Protocol)
  • baaba.in – होस्ट नेम (Host Name)
  • .in – Domain Extension
  • sitemap.xml – फाइल का नाम
डोमेन एक्सटेंशन के प्रकार
  • .com (Commercial) – व्यवसायिक उपयोग हेतु
  • .net (Network) – नेटवर्क प्रदाता हेतु
  • .edu (Education) – शैक्षणिक संस्थानों हेतु
  • .org (Organization) – संगठन के उपयोग हेतु
  • .gov (Government) – सरकारी उपयोग हेतु etc…

डोमेन नेम सिस्टम (Domain Name System – DNS)

RSCIT Chapter 4 के अनुसार Domain Name System एक नामकरण प्रणाली है जो किसी एड्रेस या वेबसाइट को पहचानने में मदद करती है। Domain Name को IP Address द्वारा खोला जाता है, और Domain Name को इंटरनेट पर एक इंटरनेट प्रोटोकॉल (Internet Protocol – IP) प्रोवाइड कराई जाती है।

HyperText Transfer Protocol (HTTP) – कम सुरक्षित

HyperText Transfer Protocol Secure(HTTPS) – पूर्ण सुरक्षित

RSCIT Chapter 4 के अन्य सामान्य टॉपिक

  • ई-मेल बनाना (Create E-Mail)
  • ई-मेल भेजना (Send E-Mail)
  • ई-मेल एक्सेस करना (Receive Email)
  • वेब ब्राउज़र, वेब सर्च, सर्च इंजन (Google, Bing etc…)
  • विकिपीडिया (Wikipedia)

उपयोगी वेबसाइट राजस्थान में (Useful Websites in Rajasthan)

राजस्थान सरकार और इसके विभागों के लिए विशेष रूप से उपलब्ध कई उपयोगी और सूचनात्मक वेबसाइट हैं। उनमें से कुछ नीचे दिए गए अनुभागों में समझाए गए हैं ~

  • राज्य पोर्टल, राजस्थान सरकार (State Portal, Govt of Rajasthan) – https://www.rajasthan.gov.in राज्य सरकार की मुख्य वेबसाइट है, जिसमें प्रमुख विभागों के लिंक हैं।
  • आवेदन भरने के लिए आरपीएससी (RPSC) वेबसाइट (Website for Application filling)
  • राजस्थान आरटीई पोर्टल (Right to Education – RTE Portal) – राजस्थान राइट टू एजुकेशन ऑनलाइन पोर्टल http://rte.raj.nic.in/Home/PrivateSchoolPortal.aspx निजी स्कूलों में वंचित और आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों की प्रवेश प्रक्रिया को स्वचालित और व्यवस्थित करने के लिए एक वेब आधारित समाधान है।

उम्मीद है कि आपको RSCIT Chapter 4 अच्छे से समझ आ गया होगा और आपने अच्छे से याद भी कर लिया होगा, इसी तरह अन्य RSCIT Chapters के भी नोट्स आपको हमारी वेबसाइट पर मिल जाएंगे। नीचे दिए बटन पर क्लिक करके उनको भी जरूर देखें।

Comments

Popular posts from this blog

Hindi 301 Book PDF for RSOS and NIOS Students

RSOS Hindi Book अगर आप राजस्थान स्टेट ओपन बोर्ड के विद्यार्थी हैं, तो आप बिल्कुल सही जगह पर है। आज मैं आपके लिए राजस्थान स्टेट ओपन बोर्ड की कक्षा 12 की हिन्दी किताब की PDF लेकर आया हूं, जिससे अगर आपके पास किताब नहीं है तो भी आप अपनी परिक्षाओं की तैयारी कर पाएंगे। हालांकि ये किताब तो NIOS बोर्ड की है, लेकिन आपके बहुत काम की है, क्योंकि जहां तक मैं जानता हूं NIOS और RSOS की किताबों में 80% समानता होती हैं क्योंकि मैंने दोनों बोर्ड की किताबें देख रखी है। इंटरनेट पर RSOS की अलग से किताब उपलब्ध नहीं होने के कारण मैं आपको NIOS की किताब उपलब्ध करा रहा हूं। लेकिन आप बेफिक्र रहिए आपको किसी भी तरह की समस्या नहीं आएगी। NIOS Hindi Book ये जो किताब मैं आपको नीचे उपलब्ध करा रहा हूं यह किताब स्पेशियली NIOS के विद्यार्थियों के लिए है, तो आप नीचे दिए गए डाउनलोड बटन पर क्लिक करके फ्री में बुक डाउनलोड कर सकते हैं। Hindi Book Download

Rajasthan State Open School Hindi (301) Model Paper Download

RSOS Hindi Model Paper प्रश्न 1.  (क) निम्नलिखित काव्यांश की  सप्रसंग व्याख्या कीजिए ‌: नरहरि ! चंचल है मति मेरी, कैसे भगति करूँ मैं तेरी ।। तूं मोंहि देखै, हौं तोहि देखूँ , प्रीति परस्पर होई । तूं मोहि देखै, तोहि न देखूँ , यह मति सब बुधि खोई । सब घट अंतर रमसि निरंतर, मैं देखन नहिं जाना । गुन सब तोर, मोर सब औगुन, क त उपकार न माना ।। मैं, तें तोरि - मोरि असमझि सौं, कैसे करि निस्तारा ।  कह रैदास कृष्ण करुणामय । जै जै जगत-अधारा ।।                        अथवा छोड़ो मत अपनी आन, सीस कट जाये, मत झुको अनय पर, भले व्योम फट जाये। दो बार नहीं यमराज कण्ठ धरता है, मरता है जो, एक ही बार मरता है। तुम स्वयं मरण के मुख पर चरण धरो रे! जीना हो तो मरने से नहीं डरो रे! (ख) निम्नलिखित काव्य-पंक्तियों का काव्य-सौंदर्य स्पष्ट कीजिए :  कनक कनक तैं सौगुनी, मादकता अधिकाय। वा खाएँ बौरात है, या पाएँ बौराय।। प्रश्न 2. निम्नलिखित में से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर लगभग 35-35 शब्दों में दीजिए : (क) बिहारी के दोहे के आधार पर ग्रीष्म की विशेषता का वर्णन कीजिए। (ख) "नरहरि चंचल है गति मेरी" पद में रैदास ने अप

JNVU Remaining Exams New Time Table July 2020

JNVU Time Table जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय जोधपुर के विद्यार्थियों के लिए JNVU ने नया टाईम टेबल जारी कर दिया है, जिन विद्यार्थियों की परिक्षाएं शैष बची हुई थी, ये उन विद्यार्थियों का टाइम टेबल है।  बाकि जिन विद्यार्थियों को जनरल प्रमोशन मिला है वो ज्यों का त्यों रहेगा और उन्हें बिना परीक्षा पास कर दिया जाऐगा। M.A. Final Time Table M.Sc. Final Time Table M.Com. Final Time Table B.Com. (Honoures) Time Table B.Com. (Honours) Business Time Table B.Com. Final Time Table