RSCIT Chapter 3: Exploring Your Computer in Hindi

RSCIT Chapter 3 – Exploring Your Computer के इस अध्याय में हम जानेंगे कम्प्यूटर सॉफ्टवेयर से संबंधित सम्पूर्ण जानकारी, जिसमें कि ऑपरेटिंग सिस्टम क्या हैं, ग्राफिकल यूजर इंटरफेस (डेस्कटॉप), विंडोज 10, फाइल एक्सप्लोरर, रिसाइकिल बिन, एंटीवायरस तथा अन्य महत्वपूर्ण जानकारी शामिल हैं।

ध्यान दीजियेगा यहां पर आपको किताब से छापकर पाठ नहीं दिया गया हैं बल्कि सरल भाषा में नोट्स के रूप में समझाया गया है जिससे कि विद्यार्थी को पढ़ने और समझने में आसानी हो। अगर आप RSCIT की परिक्षा में अच्छे नम्बर से पास होना चाहते हैं तो आप RSCIT Chapter 1 से लेकर 16 तथा RSCIT संक्षिप्त शब्दों (Acronyms) को एक बार अच्छे से पढ़ लिजिए।

ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System)

जैसा कि शब्द में लिखा है ऑपरेटिंग, यानि यह ऑपरेट (संचालन) करने का कार्य करता है। ऑपरेटिंग सिस्टम एक सिस्टम सॉफ्टवेयर है जो कम्प्यूटर को कार्य करने योग्य बनाता है और कम्प्यूटर में उपस्थित सभी प्रोग्रामो को मेनेज करता है। यह कार्य करके Operating System यूजर और कम्प्यूटर हार्डवेयर के बीच मध्यस्थता का कार्य करता है, बिना ऑपरेटिंग सिस्टम के कोई भी कम्प्यूटिंग सिस्टम कार्य नहीं करता है। कुछ मोबाइल और कम्प्यूटर ऑपरेटिंग सिस्टम निम्न हैं ~

  • माइक्रोसॉफ्ट विंडोज (MS Windows)
  • लिनक्स (Linux)
  • यूनिक्स (Unix)
  • मेक ओएस (MacOS)
  • Android
  • iOS
  • Symbian

ऑपरेटिंग सिस्टम के मुख्य कार्य

वैसे तो ओपरेटिंग सिस्टम के बहुत कार्य होते हैं, क्योंकि पूरा कम्प्यूटर सिस्टम ही OS पर टिका हुआ हैं, लेकिन RSCIT Chapter 3 के अनुसार कुछ मुख्य कार्य निम्न हैं ~

  • रिसोर्स मैनेजमेंट (Resource Management)
  • एप्लिकेशन और यूजर के बीच इन्टरफेस (Interface)
  • प्रोग्राम क्रियान्वयन (Program Execution)
  • इमेज स्कैनिंग (Image Scanning)
  • प्रोसेसेबल ग्राफिक्स
  • एनीमेशन व मल्टीमीडिया सपोर्ट

ग्राफिकल यूजर इंटरफेस (GUI)

यह कोई बड़ी चीज नहीं है बल्कि ऑपरेटिंग सिस्टम के अन्तर्गत होने वाली प्रक्रिया है, अगर सरल शब्दों में कहें तो आपका डेस्कटॉप स्क्रीन और और उस पर OS द्वारा सुव्यवस्थित किऐ गऐ प्रोग्राम, ग्राफिक्स तथा अन्य चीजें जो आपको व्यवस्थित तरीके से दिखाई देती है, इसे ही ग्राफिकल यूजर इंटरफेस कहा जाता हैं। कुल मिलाकर Operating System इंटरफेस ही ग्राफिकल यूजर इंटरफेस है।

विंडोज 10 (Windows 10)

विन्डोज सबसे ज्यादा उपयोग किया जाने वाला ओपरेटिंग सिस्टम है, विंडोज पर्सनल कम्प्यूटर में उपयोग किया जाने वाला OS है तथा Windows 10 माइक्रोसॉफ्ट की तरफ से सबसे नवीनतम वर्जन है जिसे 29 जुलाई 2015 को रिलीज किया गया। विंडोज के पुराने वर्जन ~ Windows 8/8.1, 7, Vista, XP, ME, 2000, 98, NT, 95 and MS-DOS हैं।

विंडोज 10 इंटरफेस (Interface)

विंडोज 10 का उपयोग करते समय निम्न ऑफ्शन का मुख्य रूप से उपयोग किया जाता है ~

  • कंप्यूटर को बूट करना (Cold Boot/Reboot)
  • डेस्कटॉप एरिया (Desktop)
  • टास्कबार (Taskbar)
  • आइकन (Icon)
    • क्विक लॉन्च आइकन (Quick Launch)
    • शॉर्टकट आइकन (Shortcut)
  • सिस्टम ट्रे (System Tray)
  • स्टार्ट मेनू (Start)
    • अकाउंट (Account)
    • पावर (Power)
    • क्विक लिंक्स/क्विक ऐप्स/ऑल ऐप्स
    • सर्च बार (Search)
    • एप पिनिंग (Pinning)
  • टास्क व्यू (Task View)
  • मल्टीपल डेस्कटॉप (Multiple 💻)
  • माइक्रोसॉफ्ट एज (MS Edge)
  • विंडोज स्टोर (Windows Store)
  • कोरटाना (Cortana)

विंडोज 10 बेसिक एप्लिकेशन

विंडोज 10 में कुछ बेसिक एप्लिकेशन ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ इन-बिल्ट होती है, हर प्रकार के OS में ऐसी ही एप्लिकेशन का बेसिक सेट आता है। ये बेसिक एप्लिकेशन वो होती है जिनका आप दैनिक जीवन में तथा कम्प्यूटर चलाते समय उपयोग में लेते है, इस कारण इनका ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ में आना जरूरी भी हो जाता हैं। कुछ ऐसी ही विंडोज के साथ आने वाली बेसिक एप्लिकेशन नीचे दी गई है ~

  • कैल्क्युलेटर (Calculator)
  • मैथ इनपुट पैनल (Math Input Panel)
  • स्न्निपिंग टूल (Snipping Tool)
  • विंडोज मोबिलिटी सेन्टर (Mobility Center)
    • ब्राइटनेस (Brightness)
    • वॉल्यूम (Volume)
    • बेट्री स्टेट्स (Battery 🔋)
    • वायरलेस नेटवर्क (Wireless Network)
    • स्क्रीन रोटेशन (Screen Rotation)
    • एक्सटर्नल डिस्प्ले (External Display)
    • सिंक सेन्टर (Sync Center)
  • पेन्ट (Paint)
  • सिस्टम टूल्स (System Tools)
फाइल एक्सप्लोरर (File Explorer)

मोबाइल में जिस तरह फाइल को एक जगह एक्सेस के लिए फाइल मेनेजर एप का प्रयोग किया जाता है उसी तरह लेपटॉप व कम्प्यूटर में फाइल्स को एक्सेस करने के लिए फाइल एक्सप्लोरर का प्रयोग किया जाता है। यह एप्लिकेशन/सॉफ्टवेयर ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ इन-बिल्ट होती है, इसमें आप अपनी फाइल्स को मेनेज कर सकते हैं।

फाइल एक्सप्लोरर डायरेक्टरी स्ट्रक्चर एवं पाथ

फाइल पाथ या रास्ता किसी भी फाइल की लोकेशन को प्रदर्शित करता है, जिस तरह आपके ब्राउज़र में जब किसी भी वेबसाइट के पेज और पोस्ट को देखते हैं तो उपर URL में आपको / इस तरह के कई चिह्न दिखाई देते हैं, यही डायरेक्टरी स्ट्रक्चर है। नीचे दिऐ गऐ उदाहरण से आप अच्छे से समझ सकते हैं ~
उदाहरण – D:\FM\Tutorial\RS.mp4

  • D: – ड्राइव का नाम
  • FM – ड्राइव D: में टॉप लेवल फॉल्डर
  • Tutorial – FM में सब-फॉल्डर
  • RS.mp4 – ओरिजनल फाइल
रिसाइकिल बिन (Recycle Bin)

रिसाइकिल बिन आपके कम्प्यूटर में डिलीट की गई फाइलों को कुछ समय के लिए स्टोर करके रखता है और उसके बाद उन्हें परमानेंटली डिलीट कर देता है। रिसाइकिल बिन सॉफ्टवेयर का मुख्य मकसद यह है कि अगर आप गलती से कोई जरूरी फाइल डिलीट कर दें तो आप उसे वापस पा सकते हैं। कुल मिलाकर देखा जाऐ तो Recycle Bin बैकअप का कार्य करता हैं।

RSCIT Chapter 3 सामान्य जानकारी
  • कंप्यूटर में किसी भी एप्लिकेशन/सॉफ्टवेयर को आप इस तरीके से शुरू कर सकते हैं – Start » Search “Software Name » Double Click on App » Done
  • कम्प्यूटर को अगर सही तरीके से इस्तेमाल करना है तो टाइपिंग सीखना बहुत जरूरी है। टाइपिंग में सबसे मुख्य बात ये होती हैं कि आपकी अंगुलियां Home Row (बायें हाथ की अंगुलिया – ASDF, दायें हाथ की अंगुलिया – ;LKJ, अंगुठा – Space Bar) पर ही रहने चाहिए।
  • कम्प्यूटर को आसानी से चलाने के लिए शॉर्टकट कुंजियों का प्रयोग किया जाता हैं और ये बहुत महत्वपूर्ण होती है। अगर आप कम्प्यूटर की सारी शॉर्टकट कीज के बारे में जानना चाहते हैं तो यहां क्लिक करें।

एंटीवायरस (Antivirus)

कम्प्यूटर सिस्टम से अवांछनीय और हानिकारक फाइलों/जंक को हटाने के लिए एन्टीवायरस को उपयोग में लिया जाता है। आजकल एंटीवायरस बहुत एडवांस हो गऐ हैं और ये एक क्लिक में ही कम्प्यूटर से सारी हानिकारक फाइलों को हटा सकते हैं, हालांकि उन्हें खरीदना पड़ता है। आप एंटीवायरस की मदद से किसी भी फाइल या फोल्डर को स्कैन कर सकते हैं। विंडोज 10 में इनबिल्ट एन्टीवायरस (Windows Defender) मिलता हैं जो कि काफी पावरफुल होता हैं। कुछ अन्य पावरफुल एन्टीवायरस सॉफ्टवेयर निम्न हैं ~

उम्मीद है कि आपको RSCIT Chapter 3 अच्छे से समझ आ गया होगा और आपने अच्छे से याद भी कर लिया होगा, इसी तरह अन्य RSCIT Chapters के भी नोट्स आपको हमारी वेबसाइट पर मिल जाएंगे। नीचे दिए बटन पर क्लिक करके उनको भी जरूर देखें।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ