RSCIT Chapter 2: Computer System in Hindi

RSCIT Chapter 2 – कम्प्यूटर सिस्टम (Computer System) के इस अध्याय में हम जानेंगे कम्प्यूटर सिस्टम के बारे में सारी जानकारी, जिसमें कि कम्प्यूटर सिस्टम क्या हैं, कम्प्य़ूटर सिस्टम के प्रमुख घटक, इनपुट-आउटपुट डिवाइस, कम्प्यूटर मेमरी तथा अन्य महत्वपूर्ण जानकारी।

ध्यान दीजियेगा यहां पर आपको किताब से छापकर पाठ नहीं दिया गया हैं बल्कि सरल भाषा में नोट्स के रूप में समझाया गया है जिससे कि विद्यार्थी को पढ़ने और समझने में आसानी हो। अगर आप RSCIT की परिक्षा में अच्छे नम्बर से पास होना चाहते हैं तो आप RSCIT Chapter 1 से लेकर 16 तथा RSCIT संक्षिप्त शब्दों (Acronyms) को एक बार अच्छे से पढ़ लिजिए।

कम्प्यूटर सिस्टम (Computer System)

कम्प्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस हैं तथा यह किसी भी तरह का कार्य करने के लिए इनपुट व आउटपुट डिवाइसेज का उपयोग करता है, जिन्हें कम्प्यूटर पेरीफल्स कहा जाता हैं। कम्प्यूटर पेरीफल्स को मुख्य रूप से तीन भागों में बांटा गया है; इनपुट डिवाइस, आउटपुट डिवाइस व इनपुट-आउटपुट डिवाइस।

कंप्यूटर एक सूचना प्रणाली (Information System) का हिस्सा है, एवं सूचना प्रणाली के पांच भाग होते है; डेटा, हार्डवेयर, सॉफ्टवेयर, प्रोसीजर एवं लोग।

कम्प्यूटर शुरू करना (Start)

कम्प्यूटर या लेपटॉप को शुरू करने के लिए सबसे पहले आप पावर ऑन बटन को क्लिक करेंगे जिससे कम्प्यूटर ऑन हो जाएगा और आपके सामने एक स्क्रीन आएगी जहां पर यूजर लॉगिन करना होगा (यानि कि आपका पासवर्ड लगाना होगा) और उसके बाद डेस्कटॉप मुख्य स्क्रीन खुल जाएगी एवं आप अपने कम्प्यूटर का इस्तेमाल पूर्ण रूप से कर सकेंगे।

कंप्यूटर सिस्टम के प्रमुख घटक

कम्प्यूटर को प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप से चलने के लिए जिन उपकरणों की जरूरत पड़ती है, वे कम्प्यूटर के घटक कहलाते हैं। घटक एक प्रकार का कम्प्यूटर का पार्ट ही होता हैं क्योंकि पार्ट्स से मिलकर ही तो कम्प्यूटर बनता है, अगर घटक नहीं होगें तो कम्प्यूटर भी नहीं होगा। RSCIT Chapter 2 में घटकों के निम्न दो प्रकार बताए गए हैं।

हार्डवेयर घटक (Hardware)

कम्प्यूटर सिस्टम का कोई भी भाग जिसकी भौतिक स्थिति उपस्थित हो एवं जिसे देखा और छुआ जा सके, हार्डवेयर घटक के अन्तर्गत आते हैं। ये CPU के अंग नहीं है, इस कारण उन्हें बाह्य उपकरण के रूप में जाना जाता हैं। कम्प्यूटर सिस्टम के प्रमुख हार्डवेयर घटक निम्न है ~

  • प्रोसेसर (Processor)
  • इनपुट डिवाइस (Input Device)
  • आउटपुट डिवाइस (Output Device)
  • मेन मेमोरी (Main Memory)
  • सेकेंडरी मेमोरी (Secondary Memory)

सॉफ्टवेयर घटक (Software)

कम्प्यूटर सिस्टम के ऐसे भाग जिनकी कोई भौतिक स्थिति नहीं होती, एवं यह कंप्यूटर मेमोरी में डिजिटल रूप से संग्रहित रहते हैं। ये डेटा (Data) और कम्प्यूटर प्रोग्राम (Program) होते हैं।

इनपुट डिवाइस

ऐसे उपकरण जिनकी सहायता से कम्प्यूटर में जानकारी या डेटा को भेजा जाता हैं या इनपुट किया जाता है, इनपुट डिवाइस कहलाते हैं। कुछ मुख्य इनपुट डिवाइस निम्न हैं ~

  • की-बोर्ड (Key-Board)
  • पोइन्टिग डिवाइस (Pointing ⇱)
    • माउस
    • टच पैड
    • ट्रेक प्वाइंट
    • ट्रैक बॉल
    • जॉय स्टिक
  • ग्राफिक्स टेबलेट (Graphics Tablet)
  • स्कैनर (Scanner)
  • मिडी डिवाइस (MIDI Device)
  • MICR
  • ऑप्टिकल मार्क रीडर (OMR)
  • ऑप्टिकल कैरक्टर रिकग्नाइजेशन (OCR)
  • बारकोड रीडर (Barcode)
  • स्पीच रिकग्नाइजेशन डिवाइस
  • वेब कैम (WebCam)

आउटपुट डिवाइस

कम्प्यूटर जनित जानकारी को प्रदर्शित करने के लिए या कम्प्यूटर में इनपुट की गई जानकारी का रिजल्ट दिखाने के लिए जिन उपकरणों का प्रयोग किया जाता है, उन्हें आउटपुट डिवाइसेज कहते हैं। कुछ मुख्य आउटपुट डिवाइसेज निम्न हैं ~

  • मॉनिटर (Monitor)
    • CRT मॉनिटर
    • फ्लैट पेनल मॉनिटर
  • प्रिंटर (Printer)
    • इंपैक्ट प्रिंटर (Impact Printer)
    • नॉन इंपैक्ट प्रिंटर (Non-Impact Printer)
  • प्लॉटर (Plotter)
  • स्पीकर (Speaker)
  • मल्टीमीडिया प्रोजेक्टर

इनपुट आउटपुट डिवाइस

ऐसे पेरीफेरल डिवाइस जिनमें दोनों इनपुट तथा आउटपुट डिवाइस के रूप में कार्य करने की क्षमता होती है, उन्हें इनपुट-आउटपुट डिवाइसेज कहा जाता हैं। कुछ मुख्य इनपुट-आउटपुट डिवाइस निम्न है ~

  • फैक्स मशीन
  • मल्टीफंक्शन डिवाइस (MFD)
    • Printer
    • Scanner
    • Copier etc…
  • मॉडेम (Analog to Digital)

कंप्यूटर मेमोरी

RSCIT Chapter 2 में बताए अनुसार कम्प्यूटर मेमोरी एक प्रकार का भंडारण स्थान (Storage Space) है जहां पर डाटा और इन्फोर्मेशन को रखा जाता हैं जिनको प्रोसेस किया जाना है। जिस तरह आपके मोबाइल की मेमोरी होती है, यह भी उसी प्रकार की ही होती है। कम्प्यूटर मेमोरी तीन प्रकार की होती है; कैश मेमरी, प्राइमरी/मुख्य मेमरी एवं सैकेण्डरी मेमरी।

कैश मेमोरी (Cache Memory)

इस मेमोरी में डाटा या इन्फोर्मेशन के उस भाग को रखा जाता है, जो CPU द्वारा बार-बार इस्तेमाल किया जाता है। इस मेमरी का उपयोग छोटी अवधि के लिए डेटा को संग्रहित करने के लिए किया जाता है।

प्राइमरी मेमोरी (Main Memory)

कम्प्यूटर सिस्टम में वर्तमान में चल रहे कार्य का डाटा जमा करने के लिए इस मेमोरी का इस्तेमाल किया जाता है। इसे कम्प्यूटर की काम करने वाली मेमोरी भी कहा जाता है और इसके बिना कम्प्यूटर नहीं चल सकता है। यह मेमरी दो प्रकार की होती हैं ~

  • RAM (Random Access Memory)
    • डायनेमिक RAM
    • स्टेटिक RAM
  • ROM (Read Only Memory)
    • P ROM
    • EP ROM
    • Flash Memory

सेकेंडरी मेमोरी (Secondary Memory)

इस मेमरी का उपयोग कम्प्यूटर में डेटा को स्थायी रूप से जमा करने के लिए किया जाता है। जिस प्रकार हमारे मोबाइल में 32 GB, 64 GB, 128 GB… की भंडारण क्षमता होती है यह भी वही है। सेकेंडरी मेमरी में हम बहुत सारे डेटा को संग्रहित करके रख सकते हैं। यह मेमरी भी कई प्रकार की होती है ~

  • हार्ड डिस्क/हार्ड डिस्क ड्राइव
  • ऑप्टिकल डिस्क
  • सीडी रिकॉर्डेबल डिस्क (CD-R)
  • कॉम्पैक्ट डिस्क रीड/राइट (CD-RW)
  • डिजिटल वर्सटाइल डिस्क
  • ब्लू-रे डिस्क
  • पेन ड्राइव/फ्लैश मेमोरी
  • स्मार्ट मीडिया कार्ड
  • सिक्योर डिजिटल कार्ड
    • MiniSD Card
    • MicroSD Card

सिस्टम इन्फोर्मेशन (System Info.)

अपने कम्प्यूटर या लेपटॉप के बारे में जानकारी जैसे – ऑपरेटिंग सिस्टम, प्रोसेसर, रैम तथा अन्य जानकारी आप निम्न तरीकों से प्राप्त कर सकते हैं

  • Simple Method
    • Start
    • Search “msinfo32
    • Enter
  • Command Prompt
    • Start
    • Search “Command Prompt
    • Run as Administrator
    • Type “System info
    • Enter

उम्मीद है कि आपको RSCIT Chapter 2 अच्छे से समझ आ गया होगा और आपने अच्छे से याद भी कर लिया होगा, इसी तरह अन्य RSCIT Chapters के भी नोट्स आपको हमारी वेबसाइट पर मिल जाएंगे। नीचे दिए बटन पर क्लिक करके उनको भी जरूर देखें।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ