Skip to main content

Rajasthan State Open School Hindi (301) Model Paper Download

RSOS Hindi Model Paper

प्रश्न 1. (क) निम्नलिखित काव्यांश की सप्रसंग व्याख्या कीजिए ‌:
नरहरि ! चंचल है मति मेरी,
कैसे भगति करूँ मैं तेरी ।।
तूं मोंहि देखै, हौं तोहि देखूँ , प्रीति परस्पर होई ।
तूं मोहि देखै, तोहि न देखूँ , यह मति सब बुधि खोई ।
सब घट अंतर रमसि निरंतर, मैं देखन नहिं जाना ।
गुन सब तोर, मोर सब औगुन, क त उपकार न माना ।।
मैं, तें तोरि - मोरि असमझि सौं, कैसे करि निस्तारा । 
कह रैदास कृष्ण करुणामय । जै जै जगत-अधारा ।।
                       अथवा
छोड़ो मत अपनी आन, सीस कट जाये,
मत झुको अनय पर, भले व्योम फट जाये।
दो बार नहीं यमराज कण्ठ धरता है,
मरता है जो, एक ही बार मरता है।
तुम स्वयं मरण के मुख पर चरण धरो रे!
जीना हो तो मरने से नहीं डरो रे!

(ख) निम्नलिखित काव्य-पंक्तियों का काव्य-सौंदर्य स्पष्ट कीजिए : 
कनक कनक तैं सौगुनी, मादकता अधिकाय।
वा खाएँ बौरात है, या पाएँ बौराय।।

प्रश्न 2. निम्नलिखित में से किन्हीं दो प्रश्नों के उत्तर लगभग 35-35 शब्दों में दीजिए :
(क) बिहारी के दोहे के आधार पर ग्रीष्म की विशेषता का वर्णन कीजिए।
(ख) "नरहरि चंचल है गति मेरी" पद में रैदास ने अपने मन की किस व्यथा को प्रकट किया है।
(ग) भरत को मां के प्रति आक्रोश क्यों था?

प्रश्न 3. राम भक्ति काव्य और कृष्ण भक्ति काव्य में चार अंतर बताइए।

rsos hindi paper


प्रश्न 4. भारतेंदु युग अथवा द्विवेदी युग की दो काव्यगत विशेषताएं बताइए।

प्रश्न 5. (क) निम्नलिखित काव्य पंक्तियां किस छन्द में लिखी गई है।
बाहिर लैकै दियवा, बारन जाय।
सा‌स ननद ढिग पहुँचत, देत बुझाय।।
(ख) निम्नलिखित काव्य पंक्ति में निहित अलंकार का नाम लिखिए :
आँखिन आँखि लगी रहैं, आंखें लागत नाँही।

प्रश्न 6. (क)निम्नलिखित गद्यांश की सप्रसंग व्याख्या कीजिए :
सूर्य का गोला पानी की सतह से छू गया। पानी पर दूर तक सोना ही सोना घुल आया। पर वह रंग इतनी जल्दी-जल्दी बदल रहा था किसी एक क्षण के लिए उसे एक नाम दे सकना असंभव था। सूर्य का गोला जैसे एक बेबसी में पानी के लावे में डूबता जा रहा था। धीरे-धीरे वह पूरा डूब गया और कुछ क्षण बीतने पर वह लहू भी धीरे-धीरे बैंजनी और बैंजनी से काला पड़ गया।
अथवा
वह दूसरे के द्वार पर भीख मांगने नहीं जाता, कोई निकट आ गया तो भय के मारे अधमरा नहीं हो जाता, नीति और धर्म का उपदेश नहीं देता फिरता, अपनी उन्नति के लिए अफसरों का जूता नहीं चाटता-फिरता, दूसरों को अवमानित करने के लिए ग्रहों की खुशामद नहीं करता, आत्मोन्नति के हेतु नीलम नहीं धारण करता, अंगूठियों की लड़ी नहीं पहनता, दांत नहीं निपोरता, बगलैं नहीं झाँकता। जीता है और शान से जीता है।

(ख) रामचंद्र शुक्ल अथवा हजारी प्रसाद द्विवेदी की भाषा शैली की दो विशेषताओं का उल्लेख कीजिए।

प्रश्न 7. निम्नलिखित में से किन्ही दो प्रश्नों के उत्तर लगभग 40 शब्दों में लिखिए।
(क) पंकज कुमार की कहानी के आधार पर अनुराधा के चरित्र की किन्हीं दो विशेषताओं पर प्रकाश डालिए।
(ख) शुक्ल जी के अनुसार क्रोध से क्या-क्या हानियां हो सकती है?
(ग) "जिजीविषा की विजय" पाठ के आधार पर डॉ रघुवंश के कर्मयोगी रूप की किन्हीं दो विशेषताओं पर प्रकाश डालिए।

प्रश्न 8. अनुराधा की किन्हीं दो चारित्रिक विशेषताओं पर प्रकाश डालिए।

प्रश्न 9. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर 50 शब्दों में लिखिए :
(क) "पीढ़ियां और गिटि्टयाँ" व्यंग्य द्वारा लेखक क्या प्रतिपादित करना चाहता है? समझाइए।
(ख) ‘दो कलाकार’ कहानी में आप चित्रा और अरूणा में से किससे अधिक प्रभावित हुए और क्यों? स्पष्ट कीजिए।

प्रश्न 10. कुंजरसिंह दलीपनगर के गृहयुद्ध में अली मर्दान को बुलाने का समर्थन क्यों नहीं करता?

प्रश्न 11. कुमुद को दुर्गा का अवतार क्यों माना जाने लगा था?

प्रश्न 12. निम्नलिखित अपठित काव्यांश को पढ़कर पूछे गए प्रश्नों के उत्तर दीजिए :
तरुणाई है नाम सिंधु की उठती लहरों के गर्जन का,
चट्टानों से टक्कर लेना लक्ष्य बने जिनके जीवन का।
विफल प्रयासों से भी दुना वेग भुजाओं में भर जाता,
जोड़ा करता जिनकी गति से नव उत्साह‌ निरंतर नाता,
पर्वत के विशाल शिखर-सा योवन उसका ही है अक्षय,
जिसके चरणों पर सागर के होते अनगिन ज्वार सदा लय,
अचल खड़े रहते जो उंचा शीष उठाएं तूफानों में,
सहनशीलता, दृढ़ता हंसती, जिनके योवन के प्राणों में।
(क) तरुणाई को सागर की लहरों के समान क्यों माना गया है?
(ख) प्रयास सफल न होने पर उत्साही युवकों पर क्या प्रभाव पड़ता है?
(ग) यौवन की तुलना किससे की गई है? क्यों?
(घ) तूफानों और संकटों में वीरों का व्यवहार कैसा रहता है?
(ड़) काव्यांश का केंद्रीय भाव दो वाक्यों में लिखिए।

प्रश्न 13. निम्नलिखित अपठित गद्यांश को पढ़कर पूछे गए प्रश्नों के उत्तर दीजिए :
हम कांचीपुरम पहुंचे तो गाइड समझाने लगा, "यह भारत की प्राचीन सप्तपुरीयों में से एक पूरी है - कांची। इसका प्राचीन नाम कांचनपुर भी था। यह तमिलनाडु का प्रसिद्ध नगर है। पल्लव राजाओं ने छठी शताब्दी में यहां अनेक मंदिर बनवाए थे। शंकराचार्य और रामानुजाचार्य जैसे प्रसिद्ध दार्शनिकों और संस्कृत के कवि दण्डी और भारवीं भी यहां रहे थे। कांची रेशमी साड़ियों के लिए विश्व प्रसिद्ध है। ऐसा कोई पर्यटक नहीं जो यहां आकर कांचीपुरम साड़ी ना खरीदता हो।" कांचीपुरम के बाद हमारा अगला पड़ाव था चिंदम्बरम। यह तमिलनाडु का पवित्र तीर्थ भी है। शिव की नृत्य मुद्रा 'नटराज' की प्रसिद्ध मूर्ति यहीं पर है। भूमि, जल, अग्नि, वायु, आकाश - इन पांच भौतिक तत्वों के आधार पर 5 लिंगों की कल्पना करके इस मूर्ति का निर्माण किया गया है। इसका स्वर्ण मंडित कलश इसकी शोभा में चार चांद लगा देता है। इसकी नृत्यशाला, गोपुरम, कलश, नटराज सभी वास्तुकला के अद्भुत नमूने हैं। गोपुरम में भरतनाट्यम की 108 नृत्य मुद्राओं का चित्रांकन किया गया है।
(क) गद्यांश में किन नगरों का वर्णन है? वे कहां स्थित है?
(ख) कांचीपुरम से किन महापुरुषों का संबंध रहा है?
(ग) कांची का निर्माण किस राजवंश द्वारा किया गया?
(घ) पर्यटक यहां से क्या खरीदकर ले जाते हैं?
(ड़) चिदंबरम क्यों प्रसिद्ध है?
(च) 'नटराज' की क्या विशेषता है?
(छ) वास्तुकला के अद्भुत नमूने किन्हे कहा गया है?
(ज) चिदंबरम के गोपुरम की विशेषता लिखिए?
(झ) गद्यांश के लिए उपयुक्त शीर्षक दीजिए?
(ञ) "चार चांद लगाना" मुहावरे का वाक्य प्रयोग कीजिए।
(ट) प्रसिद्ध, भौतिक - में उपसर्ग और प्रत्यय अलग कीजिए।

प्रश्न 14. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर निर्देशानुसार लिखिए :
(क) प्रश्नार्थक वाक्य में बदलिए -
दिल्ली में भले लोग रहते हैं।
(ख) संधि विच्छेद कीजिए -
महर्षि, सामाजिक
(ग) वाक्य शुद्धिकरण कीजिए -
चाय का एक गर्म प्याला पीते जाइए
(घ) अर्थ के आधार पर वाक्य का भेद बताइए -
संजय आज परीक्षा देने के बाद खेलने नहीं आएगा
(ड़) मिश्र वाक्य में बदलिए -
गांव जाते ही वह बीमार पड़ गया।

प्रश्न 15. परिवहन निगम के क्षेत्रीय प्रबंधक को पत्र लिखिए, जिसमें बस चालक की सूझबूझ और दिलेरी की प्रशंसा करते हुए उसे विभाग द्वारा पुरस्कृत करने का आग्रह किया गया हो।

प्रश्न 16. निम्नलिखित में से किसी एक विषय पर लगभग 300 से 350 शब्दों में निबंध लिखिए :
१. प्रदूषण
२. भ्रष्टाचार
३. राजनीति

प्रश्न 17. निम्नलिखित में से किसी एक का भाव पल्लवन कीजिए :
१. अपना भाग्य, अपने हाथ
२. धीरे-धीरे रे मना, धीरे सब कुछ होय।

प्रश्न 18. प्रतिवेदन लेखन की उपयोगिता पर प्रकाश डालते हुए उसकी प्रक्रिया को समझाइए।

प्रश्न 19. अपने किसी प्रिय कार्यक्रम के प्रसारण के लिए धन्यवाद देते हुए और उसके पुनः प्रसारण की प्रार्थना करते हुए दूरदर्शन निदेशक को पत्र लिखिए।

प्रश्न 20. आपके विद्यालय में आयोजित लेखक कार्यशाला के उद्देश्यों तथा मुख्य अतिथि के उपयुक्त वक्तव्य के आधार पर एक रपट लिखिए।

प्रश्न 21. 'टिप्पण' और 'टिप्पणी' में अंतर स्पष्ट करते हुए फाइल पर टिप्पणी लिखने की पद्धति पर प्रकाश डालिए।

प्रश्न 22. निम्नलिखित पारिभाषिक शब्दों में से किन्हीं दो का अर्थ लिखिए:
१. स्वच्छ प्रति
२. अनुवांशिकता
३. पत्रकारिता
४. अलिंद

Comments

  1. Mujhe Rajasthan state open 12th ka Hindi ka model paper solve kar bhav

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

Hindi 301 Book PDF for RSOS and NIOS Students

RSOS Hindi Book अगर आप राजस्थान स्टेट ओपन बोर्ड के विद्यार्थी हैं, तो आप बिल्कुल सही जगह पर है। आज मैं आपके लिए राजस्थान स्टेट ओपन बोर्ड की कक्षा 12 की हिन्दी किताब की PDF लेकर आया हूं, जिससे अगर आपके पास किताब नहीं है तो भी आप अपनी परिक्षाओं की तैयारी कर पाएंगे। हालांकि ये किताब तो NIOS बोर्ड की है, लेकिन आपके बहुत काम की है, क्योंकि जहां तक मैं जानता हूं NIOS और RSOS की किताबों में 80% समानता होती हैं क्योंकि मैंने दोनों बोर्ड की किताबें देख रखी है। इंटरनेट पर RSOS की अलग से किताब उपलब्ध नहीं होने के कारण मैं आपको NIOS की किताब उपलब्ध करा रहा हूं। लेकिन आप बेफिक्र रहिए आपको किसी भी तरह की समस्या नहीं आएगी। NIOS Hindi Book ये जो किताब मैं आपको नीचे उपलब्ध करा रहा हूं यह किताब स्पेशियली NIOS के विद्यार्थियों के लिए है, तो आप नीचे दिए गए डाउनलोड बटन पर क्लिक करके फ्री में बुक डाउनलोड कर सकते हैं। Hindi Book Download

JNVU Remaining Exams New Time Table July 2020

JNVU Time Table जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय जोधपुर के विद्यार्थियों के लिए JNVU ने नया टाईम टेबल जारी कर दिया है, जिन विद्यार्थियों की परिक्षाएं शैष बची हुई थी, ये उन विद्यार्थियों का टाइम टेबल है।  बाकि जिन विद्यार्थियों को जनरल प्रमोशन मिला है वो ज्यों का त्यों रहेगा और उन्हें बिना परीक्षा पास कर दिया जाऐगा। M.A. Final Time Table M.Sc. Final Time Table M.Com. Final Time Table B.Com. (Honoures) Time Table B.Com. (Honours) Business Time Table B.Com. Final Time Table